Monday, January 30, 2023
More

    Latest Posts

    President Draupadi Murmu Speech Over Overcrowded Prison Supreme Court Want Detail In 15 Days- HindiNewsWala


    Draupadi Murmu Speech: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा जमानत के बावजूद छोटे-मोटे अपराधों में जेलों में बंद लोगों की दुर्दशा को लेकर दिए गए भावुक भाषण के कुछ दिनों बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (29 नवंबर) को देश भर के जेल अधिकारियों को ऐसे कैदियों का ब्योरा 15 दिन के भीतर राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया, ताकि उनकी रिहाई के लिए एक राष्ट्रीय योजना तैयार की जा सके.

    राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 26 नवंबर (शनिवार) को सुप्रीम कोर्ट में अपने पहले संविधान दिवस संबोधन में झारखंड के अलावा अपने गृह राज्य ओडिशा के गरीब आदिवासियों की दुर्दशा पर प्रकाश डालते हुए कहा था कि जमानत राशि भरने के लिए पैसे की कमी के कारण वे जमानत मिलने के बावजूद जेल में हैं.

    अंग्रेजी में अपने लिखित भाषण से हटकर, मुर्मू ने हिंदी में बोलते हुए न्यायपालिका से गरीब आदिवासियों के लिए कुछ करने का आग्रह किया था. उन्होंने कहा था कि गंभीर अपराधों के आरोपी मुक्त हो जाते हैं, लेकिन इन गरीब कैदियों, जो हो सकता है कि किसी को थप्पड़ मारने के लिए जेल गए हों, को रिहा होने से पहले वर्षों जेल में बिताने पड़ते हैं.

    कोर्ट ने क्या कहा? 

    News Reels

    जस्टिस एस के कौल सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़ के साथ उस समय मंच पर बैठे थे जब राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने अपने ओडिशा में विधायक के रूप में और बाद में झारखंड की राज्यपाल के रूप में कई विचाराधीन कैदियों से मिलने का अपना अनुभव बताया.

    जस्टिस कौल और न्यायमूर्ति अभय एस ओका की पीठ ने मंगलवार (29 नवंबर) को जेल अधिकारियों को ऐसे कैदियों का विवरण संबंधित राज्य सरकारों को प्रस्तुत करने का निर्देश दिया, जो 15 दिन के भीतर दस्तावेजों को राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) को भेजेंगी.

    बेंच ने मांगी यह जानकारी 

    बेंच ने कहा कि जेल अधिकारियों को विचाराधीन कैदियों के नाम, उनके खिलाफ आरोप, जमानत आदेश की तारीख, जमानत की किन शर्तों को पूरा नहीं किया गया और जमानत के आदेश के बाद उन्होंने जेल में कितना समय बिताया है, इस तरह के विवरण प्रस्तुत करने होंगे.

    यह भी पढ़ें- Supreme Court on EC: ‘इलेक्शन कमिश्नर अरुण गोयल की नियुक्ति की फाइलें कल तक दिखाएं’, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा

    Latest Posts

    Don't Miss