उत्तराखंड के इन हिल स्टेशन की खूबसूरती हैं लाजवाब, आप भी घूम आएं एक बार

0
28
Spread the love

क्या आपने वीकेंड पर कहीं बाहर जाने का प्लॉन बनाया है? क्या आप वीकेंड पर कुछ एडवेंचर्स करना चाहते हैं? क्या आप छुट्टी के दौरान प्रकृति की खूबसूरती को करीब से निहारना चाहते हैं? अगर इन सभी सवालों का जवाब हां है तो ऐसे में आपको उत्तराखंड के हिल स्टेशन जाना चाहिए। यहां पर आप कैम्पिग से लेकर ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग, स्कीइंग, योग, ध्यान आदि काफी कुछ कर सकते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको उत्तराखंड के कुछ बेहतरीन हिल स्टेशन के बारे में बता रहे हैं, जो आपको एक अलग ही एक्सपीरियंस देंगे-
मसूरी
यह उत्तराखंड का एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। यहां पर आप अपने पार्टनर से लेकर दोस्तों यहां तक कि सोलो ट्रिप की योजना भी बना सकते हैं। आप दक्षिण में शिवालिक पर्वतमाला और दून घाटी की एक झलक देख सकते हैं। आप कैमल्स बैक रोड में टहलने जा सकते हैं या केम्प्टी फॉल्स देख सकते हैं या माल रोड से शॉपिंग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: ऑफ सीजन में घूमें इन जगहों पर, मजा भी आएगा और पैसे भी लगेंगे कम

रानीखेत
देवदार के पेड़ों के साथ यह उत्तराखंड का एक बेहतरीन हिल स्टेशन है। रानीखेत का अर्थ है रानी की भूमि और यह अपने नाम को एकदम सार्थक करती हैं। यह उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में स्थित है और मौसमों में आप यहां की खूबसूरती को निहार सकते हैं।  
नैनीताल
नैनीताल यूं तो एक छोटा सा शहर है, लेकिन पूरे उत्तराखंड में पसंदीदा पर्यटन स्थलों में से एक है। आप यहां पर बोटिंग का आनंद ले सकते हैं या नैनीताल के बाजारों में शॉपिंग का लुत्फ उठा सकते हैं। इसके अलावा, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, नैना देवी मंदिर और स्नो व्यूपॉइंट को भी अवश्य देखें। आपकी उत्तराखंड की यात्रा नैनीताल का दौरा किए बिना पूरी नहीं हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: ऋषिकेश में रिवर राफ्टिंग करने का है मन, तो इन सेफ्टी टिप्स को जरूर करें फॉलो

मुक्तेश्वर
अगर आपको एडवेंचर्स स्पोर्ट्स पसंद हैं तो आपको मुक्तेश्वर अवश्य जाना चाहिए। चाहे वह रॉक क्लाइम्बिंग हो, पैराग्लाइडिंग हो, ट्रेकिंग हो या कैंपिंग। मुक्तेश्वर में आप हर चीज का आनंद उठा सकते हैं। यह शानदार जगह हिमालय पर्वतमाला का 180 डिग्री का नजारा देती है। यह भी कहा जाता है कि एक बार भगवान शिव ने एक भयंकर युद्ध के बाद एक राक्षस को अमरता प्रदान की थी, जो बाद में इस स्थान के नाम का कारण बना। यह हिंदू देवताओं के विभिन्न प्राचीन मंदिरों का घर है।
– मिताली जैन

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here